AIDS Full Form in Hindi




AIDS Full Form in Hindi - एड्स की पूरी जानकारी हिंदी में

AIDS Full Form in Hindi, AIDS Full Form, एड्स फुल फॉर्म, क्या आपको पता है AIDS की full form क्या है, और AIDS का क्या मतलब होता है, क्या आपको पता है AIDS के होने के कारण, लक्षण और उपचार क्या है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं है क्यूंकि आज हम इस post में आपको AIDS की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है तो फ्रेंड्स AIDS Full Form in Hindi में और AIDS की पूरी history जानने के लिए इस post को लास्ट तक पढ़े।

AIDS की फुल फॉर्म “Acquired Immune Deficiency Syndrome” होती है, AIDS को हिंदी भाषा में “अक्वायर्ड इम्यून डेफिशियेंसी सिंड्रोम” कहा जाता है. HIV एक virus का नाम है, जिसके कारण ही world की सबसे घातक बीमारी AIDS होती है ! एचआईवी कोई हिंदी नाम नहीं है, दोस्तों HIV virus एक मनुष्य में दूसरे मनुष्य तक blood एवं सीमेन के द्वारा इनफ़ेक्शन करता है।

AIDS एक बीमारी है, और ये HIV virus की वजह से होता है, दोस्तों HIV का virus immune system के T-cells पर हमला करके मनुष्य शरीर के immune system को कमजोर कर देता है, और जब मनुष्य के शरीर का  immune system कमजोर हो जाता है तब HIV का virus bacteria और fungi शरीर पर हमला कर के मनुष्य के शरीर में बिमारियों को पैदा करते है | आपको पता होना चहिये अगर HIV का पता चलते ही उसका प्रारंभिक चरण में इलाज नहीं किया गया तो यह AIDS बीमारी को निमंत्रण देता है, एड्स बहुत ही घातक फैलने वाला बीमारी है AIDS कई मायनों एक मनुष्य से दूसरे मनुष्य से फैलता है।

एड्स के शुरुआती लक्षण

  • हफ्तों तक खांसी का आना।

  • कई-कई हफ्तों तक लगातार बुखार रहना।

  • मुँह में घाव का हो जाना

  • भूख खत्म  हो जाना।

  • सोते समय पसीना का आना।

  • बार-बार दस्त  लगना

  • गले या बगल में सूजन भरी गिल्टियों का हो जाना।

एच.आई.वी. से सुरक्षा के उपाय

  • असुरक्षित यौन संबंध बनाने से बचें।

  • Shaving करते वक्त used blade से shaving नहीं करना चाहिये, shaving के लिए एक blade को सिर्फ एक ही बार use करे |

  • अगर कोई महिला HIV virus से संक्रमित हैं और गर्भधारण करना चाहती हैं, तो सबसे पहले doctor से संपर्क करें।

  • पहले से use की गयी Syringe की needil का उपयोग अगर दुबारा से किया जाता है तो ये संक्रमण का एक करण बन सकता है, इसलिए syringe और needil का दुबारा से use ना करे।

AIDS Kya Hai

AIDS का पूर्ण रूप Acquired Immune Deficiency Syndrome है, AIDS को इसके संक्षिप्त शब्द AIDS के रूप में समझाया जा सकता है; एक्वायर्ड का मतलब है कि आप इससे संक्रमित हो सकते हैं, इम्यून डेफिशिएंसी शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली की कमजोरी को निर्दिष्ट करती है, और सिंड्रोम समूह के लक्षण हैं जो एक बीमारी बनाते हैं. AIDS ह्यूमन इम्यूनो डेफिशिएंसी वायरस (HIV) नामक वायरस के कारण होता है, और यदि कोई व्यक्ति HIV से संक्रमित हो जाता है, तो उसका शरीर संक्रमण से लड़ने की कोशिश करेगा. यह "एंटीबॉडी" बना देगा, विशेष प्रतिरक्षा अणु जो शरीर को HIV से लड़ने के लिए बनाता है।

AIDS को HIV के रूप में भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है मानव इम्यूनो डेफिशिएंसी वायरस जो रेट्रोवायरस से संबंधित है. AIDS एक ऐसी बीमारी है जो पूरी तरह से प्रतिरक्षा प्रणाली को निष्क्रिय बना देती है, और इसलिए प्रतिरक्षा की कमी के कारण रोगी की मृत्यु हो जाती है. AIDS एक ऐसी बीमारी है जो बिना किसी लक्षण के लंबे समय तक प्रगति कर सकती है और जैसे ही संक्रमण बढ़ता है. यह प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ अधिक से अधिक हस्तक्षेप करता है, और संक्रमित व्यक्ति को बहुत कमजोर बना देता है और इस तरह क्षय रोग, ट्यूमर, अस्थमा जैसे आम संक्रमणों के लिए अतिसंवेदनशील होता है. आदि AIDS को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में कई तरीकों से प्रेषित किया जा सकता है, संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित संभोग करने से, रक्त आधान से, माँ से बच्चे तक (जन्म से), यह स्तनपान के द्वारा भी फैल सकता है, ओरल सेक्स के माध्यम से, कुछ मामलों में यह गहरी चुंबन द्वारा संभव हो सकता है, हाइपोडर्मिक के उपयोग से सुई, HIV से संक्रमित वीर्य के साथ कृत्रिम गर्भाधान, आदि।

एचआईवी संक्रमण के कारण

एचआईवी को आँसू, रक्त, वीर्य, योनि द्रव, स्तन के दूध और तंत्रिका तंत्र के ऊतकों में पाया जा सकता है. हालांकि, केवल एचआईवी जो रक्त, वीर्य, योनि द्रव और स्तन के दूध में पाया जाता है, वह दूसरों को संक्रमण फैलाने के लिए पाया गया है।

एड्स को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में कई तरीकों से प्रेषित किया जा सकता है −

  • एचआईवी से संक्रमित वीर्य के साथ कृत्रिम गर्भाधान से

  • माँ से एक बच्चे (जन्म के लिए) तक, यह स्तनपान द्वारा भी फैल सकता है

  • किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित संभोग करने से

  • रक्त आधान द्वारा

  • ओरल सेक्स के माध्यम से, कुछ मामलों में यह गहरी चुंबन द्वारा संभव हो सकता है

  • हाइपोडर्मिक सुइयों के उपयोग से

  • एक संक्रमित दाता से प्राप्त दान अंग के माध्यम से

एचआईवी वायरस कैसे संक्रमित करता है?

एचआईवी वायरस प्रतिरक्षा प्रणाली में टी-कोशिकाओं पर हमला करता है, और आपके शरीर को इतना कमजोर बनाता है. कि यह बैक्टीरिया, वायरस और कवक से आसानी से प्रभावित हो सकता है. शुरू के हफ्तों में, यह सिरदर्द, बुखार, गले में जोड़ों और मांसपेशियों आदि जैसे लक्षण दिखा सकता है. जब संक्रमण फैलता है, तो मानव प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है और सामान्य संक्रमण, बीमारियों और कैंसर से लड़ने की क्षमता खो देती है. एड्स इस संक्रमण की चरम स्थिति है, यानी एचआईवी से संक्रमित व्यक्ति यदि ठीक से इलाज न किया जाए तो यह एड्स में प्रगति करेगा।