IELTS Full Form in Hindi




IELTS Full Form in Hindi - आईईएलटीएस की पूरी जानकारी हिंदी में

IELTS Full Form in Hindi, IELTS Full Form, आईईएलटीएस की फुल फॉर्म इन हिंदी, दोस्तों क्या आपको पता है IELTS की Full Form क्या है, IELTS का क्या मतलब होता है, IELTS की स्थापना कब हुई थी, और IELTS की विशेषताएँ क्या है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि आज हम इस post में आपको IELTS की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है तो फ्रेंड्स IELTS Full Form in Hindi में और IELTS की पूरी history जानने के लिए इस post को लास्ट तक पढ़े।

IELTS की फुल फॉर्म “International English Language Testing System” होती है, हिंदी भाषा में इसे “अंतर्राष्ट्रीय अंग्रेजी भाषा जांच प्रणाली” कहा जाता है, IELTS के नाम से ही आप समझ सकते है कि यह एक ऐसा test है जिसके जरिये यह पता किया जाता है कि किसी व्यक्ति विशेष को english language का कितना ज्ञान है, जैसा की आप जानते है कुछ देशों में जहा पर बात करने के लिए और ऑफिस के काम करने के लिए अंग्रेजी भाषा की जानकारी होना बहुत आवश्यक है. यदि वहाँ पर आप कोई काम करना चाहते हो या फिर अपनी study पूरा करना चाहता है तो उसके लिए आपको अंग्रेजी का आना बहुत आवश्यक है।

आपकी इंग्लिश कुशलता को परखने के लिए बहुत सी country work के लिए या फिर study के लिए IELTS Exam की मांग करती है, दोस्तों मुख्य तौर पर London, Ireland, Australia, Canada, New Zealand, the UK और USA में किसी फर्म में काम करने के लिए या किसी university में पढाई के लिए यह IELTS Exam आवश्यक होता है. इसके recognised होने की बात करें तो यह course इन सभी देशों में किसी कम्पनी , university और दूसरी government institutions में मान्य होता है।

What is IELTS in Hindi

IELTS इंग्लिश लैंग्वेज का टेस्ट है, अगर कोई उन देशों में जाकर काम करना चाहता या फिर पढ़ना चाहता है, जहां इंग्लिश संचार की मुख्य भाषा है तो यह टेस्ट देना पड़ता है. IELTS दुनिया भर में सबसे प्रसिद्ध इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट है. दुनिया भर के कई देशों के Educational institutions, professional registration institution, सरकारी इमिग्रेशन एजेंसी इंग्लिश लैंग्वेज स्किल्स के प्रूफ के लिए इस टेस्ट की मांग करते हैं. अगर आपको विदेश में Colleges में admission लेना है तो यह एक जरूरी काग्जात है. कई देशों में तो IELTS के बिना वीजा की सुविधा ही नहीं मिलती. दुनिया भर में 9000 Organisation इस टेस्ट को स्वीकार करते हैं. पिछले साल करीब 2 मिलियन लोगों ने इस टेस्ट को दिया था. अगर आपको विदेश में पढ़ाई करनी है तो इस टेस्ट को पास करना होगा. इस एग्जाम में 4 सेक्शन होते हैं, लिस्निंग, रिडिंग, राइटिंग, स्पीकिंग. अगर इन छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखेंगे तो ये टेस्ट जरूर पास कर लेंगे और आपका विदेश जाने का सपना साकार होगा।

  • लिस्निंग सेक्शन में रिकॉर्डिंग शुरू होने से पहले ही हर सेक्शन के सवालों को ध्यान से पढ़ लें, इससे आपको रिकॉर्डिंग के दौरान सवालों को समझने में मदद होगी.

  • राइटिंग सेक्शन में शब्दों का इस्तेमाल करते समय सावधान रहें अगर आपने सवालों के ही शब्दों को लिखा है तो एग्जामिनर वर्ड काउंट में उन शब्दों का नहीं गिनेगा.

  • रिडिंग टास्क में आपको हर शब्द का अर्थ निकालने की जरूरत नहीं है. आपके पास इतना समय नहीं होता कि आप हर शब्द का अर्थ निकालें. आप सेंस निकाल कर वाक्य का अर्थ जान सकते हैं.

  • रिडिंग टास्क में कभी-कभी उदाहरण दिए गए होते हैं. अगर ये कोई केस है तो इसे पढ़ें और इस बात को जांचे कि क्या यह सही है.

  • कई सवालों में शब्द सीमा के बारे में लिखा होता है. उदाहरण के लिए 3 शब्दों में आंसर लिखें. ऐसे में ज्यादा शब्द लिखने से बचें और कम से कम शब्दों में अपना आंसर खत्म करें.

  • राइटिंग सेक्शन में अगर आपने एक टास्क में 150 वर्ड्स लिखे हैं और दूसरी टास्क में 250 वर्ड्स लिखे हैं तो आपको कम नंबर मिल सकते हैं. लेकिन ज्यादा से ज्यादा शब्द लिखने से बचें.

  • स्पीकिंग के दौरान पहले से स्पीच को तैयार करके ना लाएं या फिर एग्जामिनर जो पूछे उससे अलग टॉपिक पर बात ना करें, एग्जामिनर जो सवाल पूछे उसका सीधे-सीधे जवाब दें.

  • इस बात का ध्यान रखें कि आपका जनरल नॉलेज का नहीं बल्कि इंग्लिश कम्यूनिकेशन का टेस्ट हो रहा है इसलिए बात करते समय अपने कम्यूनिकेशन पर ज्यादा ध्यान दें.

  • जब भी आप एग्जामिनर के सवाल का जवाब दें तो हां या ना में मत दें कोशिश करें कि कम से कम एक प्वाइंट में अपनी बात को विस्तार से जरूर समझाएं

  • अपने आइडियाज और लिंक्स को आर्गेनाइज करें और वाक्य बनाएं और बोलते समय-समय धीरे-धीरे नार्मल स्पीड से बोलें और कोशिश करें कि उसमें इंग्लिश के अच्छे से अच्छे शब्दों का इस्तेमाल हो.

IELTS परीक्षा की आवश्यकता क्यों है?

IELTS 2019 परीक्षा प्रवास के लिए और साथ ही विदेशों में Academic उद्देश्य के लिए अंग्रेजी बोलने वाले देशों जैसे ऑस्ट्रेलिया, यूके, न्यूजीलैंड, यूएसए और कनाडा में आवश्यक है. यह यूके के वीजा और इमिग्रेशन (UKVI) द्वारा स्वीकृत एकमात्र अंग्रेजी भाषा का परीक्षण है जो वीजा आवेदकों के लिए यूके के बाहर और अंदर दोनों जगहों पर आवेदन करता है. बहुत सारे छात्र भ्रमित हो जाते हैं कि IELTS score की आवश्यकता क्यों है, इसका सरल उत्तर यह है कि विदेशी विश्वविद्यालयों और वीजा देने वाले अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है, कि आपके पास देश में रहने के दौरान संचार के मुद्दे नहीं होंगे, आपको अंग्रेजी भाषा की अच्छी समझ और मजबूत आदेश दिखाने की आवश्यकता है, और यही कारण है कि आपके समग्र IELTS score इतने महत्वपूर्ण हैं।

एक अन्य सामान्य संदेह छात्रों के लिए है कि क्या IELTS एक अनिवार्य परीक्षा है या नहीं, नहीं, IELTS सभी विश्वविद्यालय प्रवेशों में अनिवार्य नहीं है. कई विश्वविद्यालयों को प्रवेश के लिए IELTS score की आवश्यकता भी नहीं हो सकती है, लेकिन याद रखें कि यदि आप IELTS नहीं देते हैं, तो छात्र वीजा प्राप्त करने की आपकी संभावनाओं को भुगतना पड़ सकता है क्योंकि वीआईएल अधिकारियों को IELTS score के बिना आपकी अंग्रेजी दक्षता के बारे में आश्वस्त नहीं किया जा सकता है. इसलिए यह IELTS के लिए प्रदर्शित होने और समग्र रूप से कम से कम 6 bnd score करने के लिए सुरक्षित है।

आप IELTS परीक्षा ब्रिटिश काउंसिल या IDP के साथ सप्ताह में एक बार (महीने में चार बार) ले सकते हैं. परीक्षण की तारीखों के लिए ब्रिटिश काउंसिल और आईडीपी वैश्विक कार्यक्रम प्रति वर्ष 48 दिन हैं।

Versions of IELTS in Hindi

IELTS के दो मुख्य संस्करण हैं आइये जानते है −

Academic version − Academic version को उन सभी छात्रों के लिए बनाया गया है. जो student विश्वविद्यालयों और उच्चतर education के अन्य institutions और डॉक्टरों, engineers, नर्सों जैसे पेशेवरों के लिए नामांकन करना चाहते हैं, जो अंग्रेजी बोलने वाले countries में सेवा करना चाहते हैं।

General Training version − General Training version को उन लोगों के लिए डिज़ाइन किया गया है जो non-academic प्रशिक्षण, या आप्रवासन प्रयोजनों के लिए दिखता है।

IELTS Eligibility?

IELTS में उम्र, लिंग, जाति, राष्ट्रीयता या धर्म के बावजूद किसी को भी लिया जा सकता है, हालांकि, 16 साल से कम उम्र के लोगों के लिए IELTS परीक्षण की सिफारिश नहीं की जाती है।

IELTS Exam Fees

IELTS के लिए पंजीकरण शुल्क रु 13,250 होता है.

IELTS Cancellation Fees क्या है?

  • यदि आप परीक्षण तिथि से पांच सप्ताह से अधिक समय पहले अपना IELTS आवेदन रद्द कर देते हैं, तो आपको रिफंड माइनस 25% प्रशासनिक शुल्क प्राप्त होगा।

  • यदि आप IELTS परीक्षा को परीक्षा की तारीख से पांच सप्ताह से कम समय तक रद्द करते हैं, तो आपको कोई धनवापसी नहीं मिलेगी।

  • यदि आप परीक्षण के लिए उपस्थित होने में विफल रहते हैं, तो भी आपको कोई धनवापसी नहीं मिलेगी। इसे भी रद्द माना जाता है।

जो लोग परीक्षण की तारीख के 5 दिनों के भीतर एक चिकित्सा प्रमाण पत्र का उत्पादन कर सकते हैं वे स्थानीय प्रशासनिक लागत में कटौती के बाद धनवापसी प्राप्त कर सकते हैं।

IELTS कैसे काम करता है?

IELTS परीक्षण एक व्यक्ति की अंग्रेजी भाषा कौशल का आकलन करने के लिए विकसित किया गया है. व्यक्तियों का आकलन उनके सुनने, पढ़ने, लिखने और बोलने के कौशल के आधारों पर किया जाता है।

  • अध्ययन के लिए IELTS का चयन करना उम्मीदवारों के लिए बहुत बड़ा लाभ हो सकता है क्योंकि IELTS को विश्व स्तर पर 10,000 से अधिक शिक्षा संस्थानों द्वारा स्वीकार किया जाता है।

  • दुनिया भर में विभिन्न पेशेवर संगठन और नियोक्ता सही उम्मीदवार का चयन करने के लिए IELTS स्वीकार करते हैं. काम के समय संचार का महत्व महसूस हुआ, कई उद्योग हैं जो उम्मीदवारों की भाषा दक्षता का परीक्षण करने के लिए IELTS परीक्षण स्वीकार करते हैं।

  • हर देश के पास IELTS के लिए Guidelines का अपना सेट है. जैसे ऑस्ट्रेलिया में इसे स्थायी निवास और विभिन्न वीज़ा श्रेणियों के लिए स्वीकार किया जाता है, कार्य वीजा, स्थायी निवास या पेशेवर उद्देश्य के लिए कनाडा में आवेदन करने वालों को IELTS जनरल टेस्ट लेने की आवश्यकता होती है।