MLA Full Form in Hindi




MLA Full Form in Hindi - एमएलए क्या है?

MLA Full Form in Hindi, MLA की Full Form क्या हैं, एमएलए की फुल फॉर्म क्या है, Full Form of MLA in Hindi, MLA Form in Hindi, MLA Kya Hota Hai, दोस्तों क्या आपको पता है MLA की Full Form क्या है, और MLA कौन होता है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं क्यूंकि आज हम इस article के माध्यम से ये जानेंगे की MLA कौन होता है, और इसकी Full Form क्या होती है? चलिए MLA के बारे में सभी प्रकार की सामान्य information आसान भाषा में इस article की मदद से प्राप्त करते हैं।

जैसा की हम सभी जानते है, हमारे देश में प्रशासन को चलाने के लिए कार्यकारी प्रणाली को तीन स्तर में विभाजित किया गया है. पहला स्तर केंद्र सरकार जो पुरे देश के स्तर पर काम करती है, दूसरा स्तर राज्य सरकार जो सिर्फ अपने राज्य में काम करती हैं और फिर तीसरा स्तर पंचायत और नगर पालिकाएं आती हैं।

यहाँ पर हम आपकी जानकारी के लिए बता दे की जो स्थानीय स्तर पर काम करती हैं, तीसरे स्तर पर काम करने के लिए एक Fixed constituency से मतदाताओं द्वारा विधान सभा का सदस्य चुना जाता है, जिसे आमतौर पर हम विधायक और अंग्रेज़ी में MLA कहते है. दोस्तों आपको तो पता ही होगा हमारे देश में 29 राज्य है, और इनमे से 21 राज्यों की अपनी एक विधानसभा है, विधानसभा में बहुत से MLA होते है और उन्ही MLA मे से विधयाको द्वारा किसी एक को राज्य स्तर पर Chief Minister के लिए नामित किया जाता है. विधायक कौन होता है और कैसे चुना जाता है।

MLA की full form "Member of Legislative Assembly" होती है. MLA का हिंदी meaning “विधानसभा का सदस्य” होता है. दोस्तों आइये अब हम इसके बारे में कुछ अन्य जानकारी प्राप्त करते हैं।

MLA कौन होता है और इसके क्या कार्य होते है, इन सबा information को जानने से पहले mla शब्द किस चीज से जुड़ा है ये जानते है, वैसे तो सब लोग यह जानते हैं लेकिन फिर भी हम आपको बताना चाहते हैं कि MLA शब्द राजनीति से जुड़ा हुआ है. सामान्य तौर पर MLA को ‘विधायक’ के नाम से जाना जाता है यह, वह लोग होते हैं जो assembly में बैठते हैं जो कि India के राज्य जैसे Maharashtra, Andhra pradesh, आदि कि assembly होती है और सभी राज्यों में हर जिले के अलग-अलग विधायक होते हैं जो कि जनता के द्वारा चुने जाते हैं।

What is MLA in Hindi

एक MLA विधानसभा का सदस्य होता है। MLA एक निर्वाचन क्षेत्र के मतदाताओं द्वारा भारत में राज्य सरकार की विधायिका के लिए चुना गया प्रतिनिधि होता है। विधान सभा के सदस्य (MLA) लोगों द्वारा चुने जाते हैं। भारत में, संसद के प्रत्येक सदस्य (सांसद) के लिए प्रत्येक राज्य में 4 से 9 विधायक हो सकते हैं, जो लोकसभा में है। एमएलए की अपनी स्थितियों के अनुसार अलग-अलग जिम्मेदारियां होती हैं, कुछ के पास एक से अधिक जिम्मेदारी होती है। उदाहरण के लिए, एक विधायक होने के नाते वह कैबिनेट मंत्री और सीएम भी हो सकते हैं।

विधानसभा सदस्य बनने के लिए कुछ बुनियादी मानदंड हैं जैसे एक उम्मीदवार को भारतीय नागरिक होना चाहिए और 25 वर्ष से कम आयु का नहीं होना चाहिए, वह किसी भी निर्वाचन क्षेत्र का मतदाता होना चाहिए और वह पागल या दिवालिया नहीं होना चाहिए। एक विधायक की जिम्मेदारियों में लोगों की शिकायतों और आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करना और उन्हें राज्य सरकार के पास ले जाना, राज्य सरकार के सामने अपने निर्वाचन क्षेत्र के स्थानीय मुद्दों को उठाना, स्थानीय क्षेत्र विकास (LAD) निधि का इष्टतम उपयोग करना शामिल है ताकि उनका विकास हो सके निर्वाचन क्षेत्र आदि।

MLA कैसे बनते हैं

MLA कैसे बाने आइये जानते हैं, दोस्तों अगर आप भी MLA बनना चाहतें हो आपको पता होना चाहिए आज के समय में MLA बनाना बहुत मुश्किल हो गया है, MLA को जनता के द्वारा चुना जाता है इसके लिए MLA को किसी party से चुनाव लड़ना होता है. किसी भी party से मतलब किसी भी राजनीतिक पार्टी जैसे कि कांग्रेस, बीजेपी, RJD आदि ऐसा नहीं है कि सिर्फ वही लोग election लड़ सकते हैं जो किसी party से belong करते हैं अन्य साधारण लोग भी MLA का election लड़ सकते हैं वह भी बिना किसी party बनाएं, और MLA का चुनाव लड़ने के लिए कम से कम आप की उम्र 25 वर्ष होना अनिवार्य है।

एक विधायक की जिम्मेदारियां

एक विधायक की जिम्मेदारियां क्या क्या होती है आये जानते है −

  • एक विधायक को अपने constituency के स्थानीय मुद्दों को राज्य सरकार के सामने उठाना चाहिए।

  • एक विधायक को अपने constituency के सदस्यों के लाभ के लिए कई विधायी साधनों का उपयोग करना चाहिए।

  • एक विधायक लोगों की शिकायतों और आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करता है और उन्हें राज्य सरकार के पास ले जाता है।

  • उसे अपने constituency को विकसित करने के लिए स्थानीय क्षेत्र विकास फंड का optimum उपयोग करना चाहिए।

MLA की कार्यावधि

MLA की कार्यावधि कितनी होती है, आइये जानते है. हमारे भारत वर्ष में विधानसभा का कार्यकाल पुरे पाँच वर्ष का होता है. हालाँकि, यह मुख्यमंत्री के अनुरोध पर राज्यपाल द्वारा उससे पहले भी भंग किया जा सकता है. आपातकाल के दौरान विधान सभा का कार्यकाल बढ़ाया भी जा सकता है, लेकिन एक बार में छह महीने से अधिक नहीं।