IPO Full Form in Hindi




IPO Full Form in Hindi - आईपीओ क्या होता है?

IPO Full Form in Hindi, IPO की फुल फॉर्म क्या होती है, आईपीओ की फुल फॉर्म क्या है, IPO का पूरा नाम क्या है, Full Form of IPO in Hindi, आईपीओ क्या है, IPO से लाभ क्या है, IPO का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है, IPO क्या है और इसमें कैसे करें निवेश, दोस्तों क्या आपको पता है IPO की Full Form क्या है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं क्योंकि आज हम इस article के माध्यम से ये जानेंगे की IPO क्या होता है? और इसकी Full Form क्या होती है? चलिए IPO के बारे में सभी प्रकार की सामान्य information आसान भाषा में इस article की मदद से प्राप्त करते हैं।

IPO की full form "Initial Public Offering" होती है, आईपीओ का हिंदी में अर्थ 'शुरुआती सार्वजानिक प्रस्ताव' होता है. IPO एक प्रक्रिया है, और इस प्रक्रिया के अंतर्गत कोई company आम जनता तक अपने शेयरों की बिक्री सार्वजनिक तौर पर करती है. आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे limited कंपनियों द्वारा IPO इसलिए किया जाता है. जिससे वह share market में listed हो सके, दोस्तों अगर आप company के share खरीदना चाहती है, तो आप इसके लिए आवेदन कर सकते है।

Company को जब लगभग सारे आवेदन प्राप्त हो जाते है, तब company पूँजी के बदले इन shares को जनता में बाँट देती है. इस तरह से company के share जनता तक पहुँच जाते है, और कंपनी को पूँजी प्राप्त होती है. जैसा की आप जानते है, इसके बाद इन shares को मार्केट में ख़रीदा और बेचा जा सकता है. दोस्तों इस तरह से company अपने expansion के लिए IPO की सहायता से पूँजी को जमा करने की कोशिश करती है. IPO की सहायता से कंपनियां सार्वजनिक रूप से नए share जारी करके इक्विटी पूंजी बढ़ती हैं, और मौजूदा share धारक company की पूंजी को बढ़ाये बिना भी अपना share जनता को आराम से बेच सकते हैं।

IPO को पब्लिक इशू के रूप में भी जाना जाता है, IPO को हमेशा से ही आम जनता के सामने ही प्रस्तुत किया गया है, आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कोई भी व्यक्ति IPO में Invest करके उस company के ownership में हिस्सेदार बन सकता है. आपको पता होगा सरकार भी IPO के द्वारा public sector कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी public को बेच सकती है. दोस्तों यदि कोई company अपना बिजनेस बड़ा करना चाहती है तो, वह company लोन ना लेकर, IPO से पूँजी ले क्योकि पूँजी जुटाने का यह एक बेहतर विकल्प है, लेकिन इसके लिए promoters में यह आत्मविश्वास होना चाहिए कि company बढ़ी हुई पूँजी से ऐसा व्यवसाय कर पाएगी और उस बढ़ी हुई पूँजी पर बेहतर रिटर्न दे पाए. पूँजी जुटाने के बाद इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि बढ़ी पूँजी की मदद से company की ग्रोथ कई गुना बढ़ जायेगी, IPO को आप फेस वैल्यू और प्रीमियम वैल्यू पर भी करा सकते है।

IPO से लाभ

IPO में investor तरफ से लगाई गई पूंजी सीधे company के पास जाती है. लेकिन विनिवेश के मामले में IPO से जो पूंजी मिलती है वह पूंजी सीधे सरकार के पास जाती है. दोस्तों एक बार इनके शेयरों की trading की इजाजत अगर मिल जाए तो फिर इन्हें आसानी के साथ खरीदा और बेचा जा सकता है, एक बात जो आपको हमेशा याद रखनी चाहिए, वो ये share को खरीदने और बेचने से होने वाले लाभ और हानि की जिम्मेदारी investor की होगी।

IPO में कैसे करें निवेश

IPO में निवेश कैसे करें आइये जानते है, जब आप IPO खरीदने के लिए किसी company का चयन करते हैं, तो सबसे पहले आपका broker best होना चाहिए, दोस्तों कोशिश करें कि ब्रोकर के साथ मिलकर ही आप company का चयन करें, और आप जिस company को चुन रहे हैं आपको उससे तीन-चार अन्य कंपनियों की भी तुलना कर लेनी चाहिए, कुछ दिन तक इन सभी कंपनियों की प्रगति को देखने के बाद ही आपको investment करना चाहिए, rating agency की राय भी बहुत मायने रखती है, company के IPO की कीमत भी देखें, बाजार में company के promoter की साख देखें और दूसरे निवेशकों से company के IPO को लेकर information लेते रहें।