BDS Full Form in Hindi




BDS Full Form in Hindi - बीडीएस क्या है?

BDS Full Form in Hindi, BDS की Full Form क्या हैं, बीडीएस की फुल फॉर्म क्या है, Full Form of BDS in Hindi, BDS Form in Hindi, BDS का पूरा नाम क्या है, BDS Ka Poora Naam Kya Hai, BDS Kya Hota Hai, दोस्तों क्या आपको पता है BDS की Full Form क्या है, और BDS होता क्या है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं क्यूंकि आज हम इस article के माध्यम से ये जानेंगे की BDS क्या होता है, और इसकी Full Form क्या होती है? चलिए BDS के बारे में सभी प्रकार की सामान्य information आसान भाषा में इस article की मदद से प्राप्त करते हैं।

BDS की full form "Bachelor Of Dental Surgery" होती है. BDS एक dental डॉक्टरी की एक graduate degree है. BDS की degree प्राप्त करने के बाद आप dental डॉक्टरी आराम कर सकता है. इस degree को प्राप्त करने और अगर आप चाहे तो अपना क्लिनिक भी open करके सकते है, और लोगो की सेवा कर सकता है।

BDS को एक dental Surgery graduation degree course के रूप में जाना जाता है. BDS का course internship के साथ 4-5 साल का होता है. BDS का course को 2 या 2 से अधिक semester में बंटा हुआ है. इस कोर्स को full time graduation degree कोर्स या part time graduation के रूप में या फिर distance learning के माध्यम से भी किया जा सकता है. ये आप पर निर्भर करता है आप किस तरह से इस course को करना चाहते है।

BDS में प्रवेश प्रक्रिया क्या हैं

BDS course के लिए अगर आप किसी भी संस्थान में admission लेते हैं. तो दोस्तों आपको पता होना चाहिए की सबसे पहले आपको एक प्रवेश परीक्षा देनी होती है. और अगर आप इस परीक्षा को पास कर लेते हैं तब जा कर आप का दाखिला BDS course में हो जाता है. इन प्रवेश परीक्षाओं में जैसे AIPMT, DMAT, NEET, COMDK होती है. ध्यान रहे ये परीक्षा समय समय पर स्टेट एवं central government या उनके कई department द्वारा प्रति वर्ष संचालित की जाती हैं।

BDS करने के क्या फ़ायदे हैं

BDS course की degree अच्छे से करने के बाद आपको एक लाइसेंस मिल जाता है. जिसके बेस पर आप कुछ ही वर्षों के experience के बाद किसी भी तरह का छोटा या बड़ा clinic खोल सकते हैं।

BDS degree को करने के बहुत से फ़ायदे हैं, आइये जानते है. आज के समय में पूरी दुनिया में दांतो की बहुत सी बीमारियों ने जन्म ले लिया है, और अब इन बीमारियों treatment करना बहुत जरुरी है. दांतो की बीमारियों के treatment के लिए dentists की जरूरत होती है. और यदि आप एक बार bachelor of dental science का course अच्छे से कर लेते है तो उसके बाद आपको एक अच्छे dentists के रूप में किसी भी government या private hospital में जॉब  मिल सकती है. BDS course करने के बाद छात्रों को ओरल pathologist, डेंटल सर्जन, dental असिस्टेंट, प्रोफेस्सोर्स आदि जॉब आसानी से मिल जाती हैं।

बीडीएस क्या है? BDS विषय क्या हैं और BDS पाठ्यक्रम के लिए पाठ्यक्रम क्या है, जानने के लिए पढ़ते रहिये, बैचलर ऑफ डेंटल साइंस (BDS) बीडीएस या बैचलर ऑफ डेंटल साइंस एक अंडर ग्रेजुएट डेंटिस्ट्री कोर्स है. पाठ्यक्रम की अवधि 1 वर्ष की इंटर्नशिप सहित 5 वर्ष है. एमबीबीएस के बाद, बीडीएस चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सबसे अधिक मांग वाला कोर्स है।

दंत चिकित्सा दवा की एक शाखा है जो मौखिक गुहा के रोगों, विकारों और स्थितियों के अध्ययन, निदान, रोकथाम और उपचार से संबंधित है. बीडीएस कोर्स को डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा नियंत्रित किया जाता है, जहां सभी दंत चिकित्सकों को अपने अध्ययन के पूरा होने के बाद अभ्यास करने में सक्षम होने के लिए पंजीकरण करना होता है।

बीडीएस पाठ्यक्रम मौखिक रोगों के उपचार, रोकथाम और निदान के लिए सामान्य दंत प्रथाओं से संबंधित ज्ञान और कौशल के साथ छात्रों को प्रशिक्षित करने पर केंद्रित है. कोर्स को विभिन्न उप-विषयों में वर्गीकृत किया जा सकता है जैसे कि एंडोडॉन्टिक, ओरल रेडियोलॉजी, ओरल पैथोलॉजी, ओरल इंप्लांटोलॉजी, ओरल मेडिसिन, पीडियाट्रिक डेंटिस्ट्री आदि।

जिन छात्रों ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से न्यूनतम 50% अंकों के साथ 10 + 2 विज्ञान (पीसीबी) उत्तीर्ण किया है, वे इस पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए पात्र हैं. इसके अलावा, उम्मीदवारों को बीडीएस प्रवेश के लिए आवेदन करने के लिए राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी यूजी) की गुणवत्ता की आवश्यकता होती है

BDS Kya Hai

BDS का पूर्ण रूप बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी होता है. BDS भारत में दंत शल्य चिकित्सा के क्षेत्र में शैक्षिक और व्यावसायिक कार्यक्रम है. यह दंत चिकित्सकों की सबसे निर्दिष्ट डिग्री है. यह मुंह से संबंधित सर्जरी और मनुष्यों के दांत, मसूड़ों और जबड़े से संबंधित समस्याओं को संबोधित करने का एक चिकित्सा क्षेत्र है. यह उन छात्रों के लिए पांच साल का स्नातक डिग्री कार्यक्रम है जो दंत चिकित्सा में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, और एक दंत चिकित्सक के रूप में. इस course की अवधि पांच साल की है. जिसमें चार साल का प्रशिक्षण और एक साल की अनिवार्य इंटर्नशिप शामिल है। केवल दांतों के क्षय का इलाज करने के अलावा, BDS course भी डेन्चर, सर्जरी और कई दंत समस्याओं पर जोर देता है।

दोस्तों जिन छात्रों ने भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के साथ विज्ञान स्ट्रीम में 12 वीं की परीक्षा उत्तीर्ण की है, वे इस विषय के लिए आवेदन करने के लिए पात्र हैं. इन छात्रों को BDS प्रवेश परीक्षा को मंजूरी देनी होगी जो राज्य स्तर या राष्ट्रीय स्तर पर हो सकती है. ये प्रवेश परीक्षा देश भर के विभिन्न कॉलेजों और विश्वविद्यालयों द्वारा आयोजित की जाती है, जो BDS पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं. BDS course के विषयों में ऑर्थोडॉन्टिक्स, डेंटिस्ट्री, ह्यूमन फिजियोलॉजी, ओरल पैथोलॉजी और ओरल माइक्रोबायोलॉजी, ह्यूमन ओरल एनाटॉमी, हिस्टोलॉजी और टूथ मॉर्फोलॉजी और ओरल और मैक्सिलोफैक्शियल सर्जरी में प्रयुक्त सामग्री शामिल हैं।