CID Full Form in Hindi




CID Full Form in Hindi - सी.आई.डी की पूरी जानकारी हिंदी में

CID Full Form in Hindi, CID Full Form, सी.आई.डी की फुल फॉर्म इन हिंदी, दोस्तों क्या आपको पता है CID की full form क्या है, CID का क्या मतलब होता है, और CID की स्थापना कब और किसने की थी? अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि आज हम इस post में आपको CID की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है तो फ्रेंड्स CID Full Form in Hindi में और CID की पूरी history जानने के लिए इस post को लास्ट तक पढ़े।

CID की फुल फॉर्म “Crime Investigation Department” होती है, हिंदी भाषा में इसको “अपराध जांच विभाग” कहते है. CID को जांच agency के रूप में जाना जाता है यह केवल state level के अपराधिक मामलों की जाँच करती है, आइये अब इसके बारे में अन्य सामान्य जानकारी प्राप्त करते हैं।

CID राज्य में किसी भी जगह पर जो भी दंगे, होते है या हत्या, अपहरण, चोरी के मामले होते हैं उनकी जांच करने का काम CID विभाग ही करता है. दोस्तों CID एक state में पुलिस का investigation और खुफिया विभाग होता है।

CID का विभाग आमतौर पर खुफिया रूप से कार्य करता है और इस खुफिया विभाग में काम करने वाले लगभग सभी सदस्य कोई विशेष Uniform ना पहन कर सामान्य वस्त्रों में ही रहते हैं, जिससे वे किसी की पहचान में आए बिना किसी भी तरह के crime का पर्दाफाश कर सके, दोस्तों CID पुलिस organization की सबसे imporatant unit होती है. इसमें काम करने वाले ऑफिसर को detective या CID officer कहा जाता है।

सीआईडी ऑफिसर कैसे बने?

सीआईडी ऑफिसर कैसे बने आइये जानते है, दोस्तों आपको पता होना चाहिए CID officer बनने के लिए कोई direct recruitment नहीं होती है इसका मतलब यह हुआ CID ऑफिसर बनने के लिए आपको सबसे पहले police या अन्य para military forces को join करना ही होता है, और जब आप अच्छी performance आपने जॉब दिखते हो तब आपको CID में select किया जाता है, CID officer बनने के लिए सबसे पहले आप ग्रेजुएशन करने के बाद पुलिस force को join करें और फिर वहां आपकी सर्विस ट्रैक रिकॉर्ड को ध्यान में रखकर CID wing में promoted किया जाता है।

CID की स्थापना कब हुई थी?

वर्ष 1902 में

CID की स्थापना किसने की थी?

ब्रिटिश सरकार ने

CID का मुख्य कौन होता है?

एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस

CID Kya Hai

CID का पूर्ण रूप या पूरा नाम Crime Investigation Department है. CID का मुख्यालय पुणे (भारत) में स्थित है, भारतीय राज्य पुलिस की एक जांच और खुफिया शाखा है, यह पुलिस संगठन की सबसे महत्वपूर्ण इकाइयों में से एक है, और इसका नेतृत्व अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक करता है. CID उन मामलों की जाँच करता है जो सरकार द्वारा निर्दिष्ट और सौंपे गए हैं. भारत के और DGP (पुलिस महानिदेशक), 1902 में, ब्रिटिश सरकार द्वारा पुलिस आयोग की सिफारिश पर देश में कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए इसका गठन किया गया था. विभाग के पास अधिकारियों की अपनी रैंक होती है, जो आमतौर पर सादे कपड़ों में काम करते हैं. इन अधिकारियों को जासूस या CID officers के रूप में जाना जाता है।

CID की वर्तमान समय में कई शाखाएँ हैं जैसे CB-CID, आतंकवाद-रोधी विंग, Anti-Terrorism Wing, Anti-Narcotics Cell एंड मिसिंग पर्सन सेल, फ़िंगर प्रिंट ब्यूरो, बैंक धोखाधड़ी, डॉग स्क्वायड और मानवाधिकार विभाग, CID का मुख्य कार्य हत्या, बलात्कार, चोरी, डकैती आदि जैसे आपराधिक मामलों की जांच करना है, यह सबूत इकट्ठा करता है, आपराधिक मामलों और धोखाधड़ी के लिए तथ्य और अपराधियों को पकड़ता है, और अंत में आरोपी को अदालत में सबूत के साथ पेश करता है. अपराध के स्तर के आधार पर, ये जांच कई शहरों और राज्यों में फैल सकती है. मामलों की जांच के लिए CID टीम स्थानीय पुलिस की मदद भी लेती है।

सीआईडी अधिकारी बनने के लिए पात्रता मानदंड

CID ऑफिसर बनने के लिए उम्मीदवार को भारत का नागरिक होना चाहिए और सीआईडी में सब इंस्पेक्टर या अधिकारी के रूप में शामिल होने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम योग्यता किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक होनी चाहिए, हालांकि, सीआईडी को एक कांस्टेबल के रूप में शामिल होने के लिए आवश्यक न्यूनतम योग्यता 12 वीं या उच्चतर माध्यमिक प्रमाणपत्र है. CID अधिकारी बनने के लिए योग्यता के अलावा, भारतीय सिविल सेवा परीक्षा जो कि संघ सेवा आयोग द्वारा हर साल आयोजित की जाती है, को पास करने के लिए पर्याप्त नहीं है।

भारत में कई विश्वविद्यालय हैं, जो स्नातक स्तर पर criminology में पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं. ये पाठ्यक्रम आपको सीआईडी में शामिल होने में मदद कर सकते हैं. CID में विभिन्न पदनाम या पद हैं. इसके अलावा, उम्मीदवार के पास एक उत्कृष्ट स्मृति, तेज आँखें, चरित्र का अच्छा निर्णय, एक टीम में काम करने की क्षमता और साथ ही अकेले होना चाहिए, ये इस नौकरी की मूलभूत आवश्यकताएं हैं।