CIF Full Form in Hindi




CIF Full Form in Hindi - सीआईएफ क्या होता है?

CIF Full Form in Hindi, CIF की फुल फॉर्म क्या होती है, सीआईएफ की फुल फॉर्म क्या है, CIF का पूरा नाम क्या है, Full Form of CIF in Hindi, सीआईएफ क्या है, CIF किसे कहते है, CIF Number का full form क्या है, CIF के क्या फायदा है, CIF Number कैसे पता करें? दोस्तों क्या आपको पता है CIF की Full Form क्या है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं क्योंकि आज हम इस article के माध्यम से ये जानेंगे की CIF क्या होता है? और इसकी Full Form क्या होती है? चलिए CIF के बारे में सभी प्रकार की सामान्य information आसान भाषा में इस article की मदद से प्राप्त करते हैं।

दोस्तों हर किसी को कभी न कभी आपने bank account किसी एक branch दुसरी branch में transfer करना पड़ता है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दे कि जब भी हम अपने bank account को किसी एक branch से दूसरी branch में transfer करते है या अपने अकाउंट की online banking activate करते है और इनकें अलावा भी ऐसे बहुत से काम होते है जिनके लिए हमे अपने bank अकाउंट के CIF नंबर की जरूरत पड़ती है. इसलिए कभी न कभी आपको भी CIF word जरुर सुनने में आता है और फिर हमारे मन में सबसे पहला यही question आता है की CIF नंबर की फुल फॉर्म क्या होती है. तो आइये जानते है की CIF नंबर फुल फॉर्म और CIF नंबर क्या है और कैसे आप अपना bank account CIF code find कर सकते हो।

CIF की full form "Customer Information File" होती है, दोस्तों CIF number का मतलब है customer information file का unique number होता है. CIF एक FILE होती है. इस का इस्तेमाल bank में किया जाता है। इस file में किसी भी account holder की banking details और personal details को store किया जाता है।

What is CIF Number – सीआईएफ नंबर क्या होता है ?

बैंकिंग सिस्टम में जो कोड (CIF, IFSC,) यूज़ होते है, उनमे अलग अलग तरह के जानकारी store होती रहती है. जैसा की आप जानते है, Cif कोड पर जो जानकारी store रहती है वह आपकी personal information, होती है उदाहरण के तौर आपका नाम, address और Bank account details जब बैंक कर्मचारी आपके account CIF नंबर बैंकिंग सिस्टम में डालते है तब उनको आपके सभी personal information मिल जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे, ऐसा नहीं की आपकी कुछ नया information, जो आपने बैंक को अभी तक नहीं दिया है. वह भी CIF Number से बैंक के कर्मचारी देख पायेगा, CIF Number से बैंक सिर्फ वही information को देखा जा सकता है. जो अपने बैंक को पहले से दे रही है, जैसे मान लीजिये की अपना address चेंज किया है, ऐसी स्थति में आपका new address CIF नंबर से नहीं देखा जा सकता, इसके लिए आपको पहले new address को बैंक अकाउंट में अपडेट करना होगा।

Bank Account का CIF Number कैसे Check करें?

अपने Bank Account का CIF Number कैसे Check करें, आइये जानते है. सभी Bank का CIF number का अलग-अलग format में होता है, ये तो आप जानते ही होंगे, कुछ बैंक्स का CIF number 8 digit का होता है, और कुछ बैंक्स का CIF number 11 digit का होता है. दोस्तों हमने नीचें कुछ बैंक्स का CIF number format बताया है −

  • Central Bank of India – 10 Digits

  • Axis Bank – 4 Digits

  • SBI – 11 Digits

  • HDFC – 8 Digits

वर्तमान समय में सभी बैंक के बैंक अकाउंट का CIF number find करने का एक ही तरीका होता है. हमने नीचें कुछ तरीके बतायें हैं जिनकी सहायता से आप किसी भी बैंक अकाउंट का CIF number बड़ी आसानी के साथ find कर सकते है −

  • Pass Book के front page पर CIF No दिया होता है।

  • चेक Book के front page पर CIF No दिया होता है।

  • Bank Branch में जाकर आप पता कर सकते है।

  • अपने Bank की Internet Banking के जरिये आप इसका पता कर सकते है।

What is CIF in Hindi

CIF नंबर के बारे में लोग ज्यादा इस लिए नहीं जानते क्योंकि यह नंबर साधारण Banking लेनदेन में यूज़ नहीं होता है. ऐसे बहुत ही कम काम होते है जिसमे आपको CIF नंबर एंटर करना पड़ता है. जिसमे से एक है Bank Account Transfer. अगर आप अपनी Bank account को एक शाखा से दूसरे शाखा में Transfer करना चाहते हो तोह आपको CIF नंबर देना पड़ता है. बैंक अकाउंट Transfer करने के अलावा एक और काम है जिसके लिए आपको CIF नंबर की जरुरत पड़ता है, वह है Net Banking Activate करते टाइम, जी हा जब आप ऑनलाइन Netbanking activte करने जा ओगे तब आपको CIF नंबर डालना होगा. निचे मैं What is cif number, cif number means और cif full form क्या होता बताया है।

CIF में डिजिटल स्वरूप में खाता धारक की बहुमूल्य बैंकिंग जानकारी होती है. प्रत्येक फ़ाइल को एक अद्वितीय संख्या दी जाती है जो प्रत्येक बैंक ग्राहक से संबंधित होती है. भारतीय स्टेट बैंक में, CIF एक 11-अंकीय संख्या है जो बैंक को एक ग्राहक के बारे में विस्तृत जानकारी देता है. बैंक इस आईडी का उपयोग ग्राहकों की जानकारी, खाता प्रकार, शेष राशि, लेनदेन, ऋण इतिहास आदि जैसी जानकारी प्राप्त करने के लिए करता है।

सीआईएफ 11 अंकों की संख्या है जो बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों की ऋण, डीमैट और केवाईसी के बारे में जानकारी को डिकोड करने के लिए उपयोग की जाती है, जिसमें जरूरत पड़ने पर पहचान प्रमाण, पता प्रमाण शामिल होते हैं. यह 11 अंकों का कोड उनके विभिन्न खातों के लिए प्रति ग्राहक अद्वितीय है. इस कोड को खातों के साथ नहीं बदला जा सकता है. संख्या को विशेष रूप से ऋण, डीमैट और ग्राहक के बारे में व्यक्तिगत जानकारी के बारे में सभी जानकारी के साथ कोडित किया जाता है. यह विभिन्न बैंकों को एक ही स्थान पर अपने विभिन्न खातों के ग्राहक के बारे में जानकारी ट्रैक करने में मदद करता है. यह भ्रम और धोखाधड़ी गतिविधियों से बच सकता है जो ऋण को मंजूरी देते समय हो सकता है।

इसमें विभिन्न उत्पाद सेवाओं और प्रशासनिक उद्देश्यों की पेशकश के लिए महत्वपूर्ण आँकड़े, खाता शेष या लेनदेन की जानकारी और खाता ग्राहक के प्रकार शामिल हैं, यह एक स्थान पर ग्राहक की विभिन्न गतिविधियाँ प्रदान करता है. CIF नंबर आज इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मल में रखा गया है. यह विभिन्न प्रासंगिक दस्तावेजों में कागज पर भी पाया जा सकता है. CIF नंबर को आधार कार्ड नंबर के समान माना जा सकता है जबकि Aadhar नंबर विशिष्ट पहचान देता है, CIF नंबर ग्राहकों को एक अद्वितीय कोड के साथ बैंकिंग जानकारी प्रदान करता है।