SOS Full Form in Hindi




SOS Full Form in Hindi - एसओएस क्या है?

SOS Full Form in Hindi, What is SOS in Hindi, SOS का Full Form क्या हैं, एसओएस का फुल फॉर्म क्या है, Full Form of SOS in Hindi, SOS किसे कहते है, SOS का इस्तेमाल कब और क्यों करते है, SOS Signal कैसे दिया जाता है, एसओएस क्या होता है, SOS का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है, SOS Signal क्या होता है, दोस्तों क्या आपको पता है SOS की Full Form क्या है, और SOS होता क्या है, अगर आपका answer नहीं है, तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं है, क्योंकि आज हम इस पोस्ट में आपको SOS की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है. तो फ्रेंड्स SOS Full Form in Hindi में और SOS की पूरी history जानने के लिए इस पोस्ट को लास्ट तक पढ़े।

आज की Post में हम आपको SOS के बारे में पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है, हम आशा करते है, की आप SOS के बारे में जो कुछ भी जानना चाहते है, वो सब जानकारी आपको इस Post के माध्यम से जरूर मिल जाएगी. SOS एक Signal है. दोस्तों ये कोई Traffic Signal नहीं है, जो गाड़ियो को रोकने का काम करता है, यह एक ऐसा Signal है जिसकी मदद से लोगों की जान भी बचाई जा सकती है. SOS में ऐसे कई Symbols, Signal या फिर Sign होते है जिन्हें देखा कर सामने वाला व्यक्ति समझा जा सकता है की Signal देने वाला व्यक्ति कहना क्या चाहता है, तो आइये जानते है की SOS Signal क्या है और इसकी फुल फॉर्म क्या होती है।

SOS की फुल फॉर्म “Save Our Souls” होती है, SOS की फुल फॉर्म का हिंदी meaning "हमें बचाओं" होता है. यह एक मोर्स कोड है, इसे Distress Code भी कहते है, यह संकट के वक़्त दिया जाने वाला Signal होता है. आइये अब इसके बारे में अन्य सामान्य जानकारी प्राप्त करते हैं।

यह एक Morse code है, और इस code का उपयोग आमतौर पर खतरे के संकेत दर्शाने के लिए किया जाता है, कोड संकेत कि एक व्यक्ति खतरे में है, और तत्काल मदद की आवश्यकता है, SOS संकट कोड किसी भी स्थान के बिना तीन dots, तीन dashes और तीन dots का एक क्रम है, international morse code में, तीन dots अक्षर S का प्रतिनिधित्व करती हैं, यह एक International Morse Code है, क्योंकि International Radio telegraphic Convention मे Morse Code का इस्तेमाल होता है।

नाविकों द्वारा सबसे ज्यादा भूतकाल मे इसका उपयोग किया जाता था, जैसा की आप जानते है. उस समय कोई भी व्यक्ति आसानी से भटक जाया करते थे और उन्हें ढूँढ पाना भी बहुत मुश्किल हुआ करता था. कुछ लोगों को आज तक भी ढूंढा नही जा सका, ऐसी में SOS Signal देकर लोगों भूतकाल में बचाया जाता था. उस समय लोगों ने इसे अपनी सहूलियत के हिसाब से और आपने तरीके से नाम देने शुरू कर दिये जैसे- Save Our Souls, Save Our Ship या Send Out Succor इनमे से Save Our Souls लोगों के बीच में बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है इसको अधिक लोगों का मत है, वास्तव में अगर देखा जाए तो इसका कोई भी अर्थ नही होता है।

संक्षिप्त इतिहास?

German सरकार द्वारा 1 अप्रैल 1905 को radio regulations में इसे पेश किया गया था, और दूसरा अंतरराष्ट्रीय Radio Telegraphic Convention में शामिल होने के बाद यह दुनिया भर में standard बन गया, आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे की 1 जुलाई, 1908 तक यह बहुत ज्यादा प्रभावी बन गया था, यह वह समय था जब धीरे-धीरे ये लोगों बीच में प्रसिद्ध होने लगा था, वर्ष 1999 में, इस समुद्री रेडियो संकट का संकेत वैश्विक समुद्री त्रास और सुरक्षा प्रणाली द्वारा बदल दिया गया था।

SOS Signal कैसे भेजा जाए?

आप एक SOS Signal को कई तरीको से भेज सकते है जिनमें से कुछ तरीके के बारे में हम आपको बताने जा रहे है. जिससे की आप जब कभी भी किसी प्रॉब्लम में फास जाये तो आप भी उन Signals का इस्तेमाल करके अपने लिए मदद बुला सकते है −

Tapping के द्वारा

इसे बात करने के लिए बहुत उपयोगी तरीका माना गया है. टैपिंग एक ऐसा तरीका जिस के द्वारा आप सामने वाले व्यक्ति को बिना कुछ बोले या बिना कोई इशारा किए अपनी बात बता सकते है. लेकिन याद रहे सामने वाले व्यक्ति को भी Tapping Language आनी चाहिए, जब आप कभी किसी ऐसे स्थान पर पहुंच जाये जहा पर आपको महसूस हो की अब आप रास्ता भूल गए है. या फिर किसी ऐसी जगह पर जहा पर आप फसे चुके हो या आप किसी को मदद के लिए नही बुला सकते उस समय आप इस Signal की मदद से बिना किसी को पुकार या बिना किसी के खबर लगे आप अपने लिए मदद बुला सकते है।

Light के द्वारा

SOS Signal भेजने का यह भी एक अच्छा तरीका है, जब आप रात के अंधेरे मे किसी ऐसी जगह पर फस जाए जहा से निकलने का कोई रास्ता देखी ना दे. ऐसे समय Light ही एक मात्र सहारा होती है, आप SOS Signal भेजने के लिए आग, Mobile की Light, Torch या Flash Light का use कर सकते है।

Mirror के द्वारा

Mirror भी SOS Signal भेजने का एक अच्छा तरीका है, जैसा की आप जानते है. इसके लिए Sun Light का होना बहुत जरूरी है. दोस्तों ऐसा भी नही है, की आप Mirror का इस्तेमाल करे आप किसी भी Reflect होने वाली चीज़ का इस्तेमाल कर सकते है. जिससे सामने वाले को Signal पहुंचाया जा सके और वह आपकी मदद को आ सके।