BPO Full Form in Hindi




BPO Full Form in Hindi - बी पी ओ की पूरी जानकारी हिंदी में

BPO Full Form in Hindi, BPO Full Form, बी पी ओ फुल फॉर्म इन हिंदी, दोस्तों क्या आपको पता है BPO की full form क्या है, BPO मे क्या काम होता है , और BPO का क्या मतलब होता है, और BPO का use कैसे लिए किया जाता है,अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि आज हम इस post में आपको BPO की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है तो फ्रेंड्स BPO Full Form in Hindi में और BPO की पूरी history जानने के लिए इस post को लास्ट तक पढ़े।

BPO की फुल फॉर्म “Business Process Outsource” होती है, BPO एक ऐसी आउटसोर्स प्रक्रिया है, जिसमें थर्ड पार्टी provider को किसी भी प्रकार के contract के आधार पर business के संचालन में शामिल में किया जाता है।

BPO एक तरह की आउट सोर्सिंग प्रक्रिया है, जो It सेक्टर का बहुत ही महत्वपूर्ण अंग होता है. BPO का मुख्य उद्देश्य कम वेतन में लोगों से काम से निकलवाना होता है, बाहर की बहुत सी बड़ी-बड़ी कंपनियां अपनी सेवाएं दूसरे देशों में आउट सोर्सिंग करती जहां पर बड़ी संख्या में कम वेतन में कर्मचारी मिल जाते है।

BPO आमतौर पर Back Office में classified आउटसोर्स है जिसमे internal business, जैसे accounting finance और human resource, शामिल है, BPO को आप it सेक्टर का बेहद महत्वपूर्ण अंग काह सकते है, क्योंकि आज के समय में बहुत सी बडी काम्पानिया कूच महत्वपूर्ण सेवाये आउटसोर्स करके पुरी करती है।

Business Process Outsource में front office आउटसोर्स में कस्टमर सर्विस जैसे call center शामिल होता है, आपको पता होना चाहिए BPO में अगर कोई भी company अपना contract देश से बाहर करती है तो उसे offshore आउटसोर्स कहा जाता है। और अगर company किसी पड़ोसी देश की company से contract करती है तो उसे nearshore आउटसोर्स कहा जाता है।

इस प्रकार की सभी कंपनियों का उद्देश्य कम लागत में आपको अच्छी सेवाएं देना होता है, उदाहरण के तौर पर United States of America में बहुत सारी ऐसी कंपनियां है जिनकी सेवाएं वहां के Hight Cost वाले employees के कारण India में आउटसोर्स करती है, और हमारे India में बहुत सारी सेवाएं आउटसोर्स की जाती है।

BPO Me Job Kaise Kare - BPO में जॉब कैसे करे

BPO में जॉब कैसे करे आइये जानते है दोस्तों BPO में जॉब करने के लिए आपको सबसे पहले interview देना होगा और उस interview को पास करने के बाद आप BPO में आराम से जॉब कर सकते है एक और बात जो आपको ध्यान रखनी चाहिए वो यह है की interview देने से पहले आप अपना एक resume बनाले जिसमें आपकी education qualification की पूरी जानकारी होनी चाहिए।

BPO में जॉब करने के लिए आपको हिंदी और इंग्लिश भाषा का ज्ञान होना बहुत ही जरुरी है और साथ ही Computer work की knowledge हो होना भी बहुत जरुरी है, क्योंकि BPO मी ज्यादातर काम आपको कॉम्पुटर पर करना होता है, आज काल सबको Computer की knowledge होता है तो इसमे कोई बडी बात नहीं है।

BPO Kya Hai

BPO एक कंपनी का contract है जो अपने संचालन और व्यावसायिक प्रक्रियाओं की जिम्मेदारियों के संबंध में तीसरे पक्ष या सेवाओं के बाहरी प्रदाता के साथ काम करता है. यह एक लागत-बचत उपाय है, जो कंपनियों को अपने व्यवसाय के गैर-प्रमुख कार्यों को outsource करने की अनुमति देता है. नियमित या परिधीय व्यावसायिक कार्यों की Outsourcing प्रचलन में है और वर्तमान में, शायद ही कोई बहुराष्ट्रीय कंपनी है. जो अपने व्यवसाय के संचालन को outsource करने से अछूती है, समय के साथ, बिजनेस प्रोसेस Outsourcing (BPO) ने ग्राहक सहायता, तकनीकी सहायता, विपणन, मानव संसाधन आदि से संबंधित सेवाएं प्रदान करके पर्याप्त महत्व प्राप्त किया है।

BPO के तीन अलग-अलग प्रकार हैं जैसे:

ऑनशोर outsourcing (इसे घरेलू outsourcing के रूप में भी जाना जाता है) इसमें BPO सेवाएं उसी देश के किसी व्यक्ति से प्राप्त की जाती हैं।

निकटवर्ती outsourcing यह पड़ोसी देशों में किसी से BPO सेवाएं प्राप्त करने को संदर्भित करता है।

अपतटीय outsourcing यह पड़ोसी देशों को छोड़कर किसी अन्य देश में बाहरी संगठन से BPO सेवाएँ प्राप्त करने को संदर्भित करता है।

एक महत्वपूर्ण और बड़े पैमाने पर लागत में कमी प्रमुख और सबसे महत्वपूर्ण कारण है जिसके लिए outsourcing को लागू किया जाता है. यह उन कार्यों की लागत को कम करता है जो एक कंपनी की आवश्यकता होती है. बिजनेस outsourcing के कुछ लाभ हैं; कंपनी अपने मुख्य व्यवसाय पर ध्यान केंद्रित कर सकती है, ओवरहेड खर्च कम किए जाते हैं, बाहरी विशेषज्ञता की उपलब्धता, कुशल और लागत में कमी, राजस्व में वृद्धि आदि।