TLC Full Form in Hindi




TLC Full Form in Hindi - टीएलसी क्या होता है?

TLC Full Form in Hindi, TLC की फुल फॉर्म क्या होती है, टीएलसी की फुल फॉर्म क्या है, TLC का पूरा नाम क्या है, Full Form of TLC in Hindi, टीएलसी क्या है, TLC किसे कहते है, TLC के क्या फायदा है, दोस्तों क्या आपको पता है TLC की Full Form क्या है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं क्योंकि आज हम इस article के माध्यम से ये जानेंगे की TLC क्या होता है? और इसकी Full Form क्या होती है? चलिए TLC के बारे में सभी प्रकार की सामान्य information आसान भाषा में इस article की मदद से प्राप्त करते हैं।

TLC की full form "Total Lung Capacity" होती है, TLC का हिंदी में अर्थ/मतलब "कुल फेफड़ों की क्षमता" होता है, वैसे तो TLC पूरी तरह से Medical Field से Related एक शब्द है लेकिन इसके बारे में आपको भी थोड़ी information रखनी चाहिए. इसीलिए आज हम आपके लिए TLC से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी इस post में देने वाले हैं. TLC के full form से हमें ये बात तो समझ आ गयी की ये हमारे फेफड़े से जुड़ा हुआ शब्द है. तो दोस्तों आइये अब इसके बारे में अन्य सामान्य information प्राप्त करते है।

TLC की फुलफॉर्म ‘Total Lung Capacity’ का मतलब या फिर अर्थ ये है. कि किसी व्यक्ति के फेफड़े(Lungs) की क्षमता कितनी होती है. आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे की हर व्यक्ति के फेफड़े में हवा भरती और निकलती रहती है, इसी कारण हम साँस ले पते हैं. दोस्तों किसी व्यक्ति के फेफड़े(Lungs) में समाहित होने वाली इस हवा की quantity को ही फेफड़े(Lungs) की क्षमता के रूप में जाना जाता है. और इसको short form में TLC के नाम से जाना जाता है।

TLC कितनी होती है?

TLC कितनी होती है आइये जानते है, आपको पता होगा एक सामान्य व्यक्ति के औसत फेफड़े की क्षमता लगभग 6 लीटर हवा होती है. और ये तो हम सब जानते हैं, की हर व्यक्ति साँस लेने के लिए ही हवा को बाहर और अंदर खिंचता रहता है. दोस्तों हर व्यक्ति को अलग-अलग परिस्थितियों में साँस लेने के लिए अलग-अलग quantity में हवा की आवश्यकता होती है. जब हम सामान्य अवस्था मे होते है तो हम धीरे-धीरे साँस लेते है इसका साफ-साफ मतलब यह हुआ उस समय हमारे द्वारा खिंची जाने वाली हवा की quantity बहुत कम होती है।

आपने अक्सर महसूस किया होगा जब आप कोई मेहनत का काम कर रहे होते है या फिर दौड़ रहे होते हैं. उस समय आप तेज़ी से साँस खींचते और छोड़ते हैं. इसका मतलब ये होता है, ऐसे समय में आपके द्वारा ली जाने वाली हवा की quantity अधिक होती है. जब कभी आप रोगग्रस्त होते हैं तब भी आपको साँस लेने के लिए हवा की अधिक quantity की आवश्यकता होती है।

What is TLC in Hindi

TLC पूरी तरह से Medical के Field से Related शब्द है. लेकिन ऐसा हामार मानना है हर व्यक्ति को इसके बारे में अन्य लोगो को भी थोड़ी जानकारी रखनी चाहिए, इसीलिए आज हम आपको TLC से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले हैं. TLC के Full Form से हमें ये बात तो समझ आ गयी की ये हमारे फेफड़े से जुड़ा हुआ शब्द है, वैसे तो ये पूरी तरह से Medical के Field से Related शब्द है लेकिन इसके बारे में अन्य लोगो को भी थोड़ी जानकारी रखनी चाहिए। इसीलिए आज हम आपको TLC से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले हैं. TLC के फुलफॉर्म से हमें ये बात तो समझ आ गयी की ये हमारे फेफड़े से जुड़ा हुआ शब्द है।

TLC एक रक्त परीक्षण रिपोर्ट में हमारी पूर्ण रक्त गणना (CBC), प्लेटलेट्स, हीमोग्लोबिन (एचबी), लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) और सफेद रक्त कोशिकाओं (WBCs), आदि की हमारी सीमा के बारे में कई परिणाम शामिल हैं. इनमें से एक कुल ल्यूकोसाइट गिनती (TLC) है ), डिफरेंशियल ल्यूकोसाइट काउंट (डीएलसी) परीक्षण कुछ सबसे सामान्य प्रकार के रक्त परीक्षण हैं. जो डॉक्टरों द्वारा सुझाए गए हैं. जबकि एक TLC शरीर में श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या निर्धारित करता है, आपके रक्त में प्रत्येक प्रकार के श्वेत रक्त कोशिका या ल्यूकोसाइट को मापने के लिए एक डीएलसी किया जाता है. वयस्कों में, रक्त में पांच प्रकार के सामान्य डब्ल्यूबीसी होते हैं; न्यूट्रोफिल या पॉलीमोर्फ, लिम्फोसाइट्स (बी और टी कोशिकाएं), मोनोसाइट्स, ईोसिनोफिल्स, बेसोफिल्स और बैंड या युवा न्यूट्रोफिल.

TLC और डीएलसी रक्त परीक्षण एक मूल विचार देता है कि आप किस तरह की बीमारी से पीड़ित हैं और एक मरीज के लिए प्राथमिक स्तर पर किया जाता है. यह हमें बताता है कि क्या बुखार, खांसी, मूत्र संक्रमण आदि है, यह भी एक विचार देता है अगर कुछ और गंभीर है. TLC और डीएलसी किसी भी प्रकार की समस्या से पीड़ित होने पर करवाने के लिए अच्छे परीक्षण हैं. TLC सभी परिस्थितियों में फेफड़े में रहने वाली हवा की अधिकतम मात्रा बताती है. डॉक्टरों द्वारा किसी व्यक्ति के TLC की जाँच मशीन द्वारा की जाती है। इस TLC के अनुसार ही डॉक्टर किसी व्यक्ति के फेफड़ो की सही स्थिति के बारे में जान पाते हैं।

TLC ज्वारीय आयतन, निरीक्षणीय आरक्षित आयतन, प्राणवायु आरक्षित आयतन, अवशिष्ट आयतन का योग है. जैसे टीएलसी = टीवी + आईआरवी + ईआरवी + आरवी। एक स्वस्थ व्यक्ति की फेफड़े की औसत कुल क्षमता लगभग 6 लीटर हवा है।

Tidal Volume (TV) − सामान्य, आराम से सांस लेने के दौरान आप जिस हवा में सांस लेते हैं। यह आमतौर पर लगभग 500 मिलीलीटर हवा है।

Inspiratory Reserve Volume − सामान्य साँस लेने में ज्वारीय मात्रा में सांस लेने के बाद अतिरिक्त हवा जिसे आप जबरन अपने फेफड़ों में ले जा सकते हैं। यह लगभग 3,100 मिलीलीटर हवा है।

Expiratory Reserve Volume − सामान्य हवा में ज्वारीय मात्रा को बाहर निकालने के बाद अतिरिक्त वायु जिसे आप जबरन सांस ले सकते हैं। यह लगभग 1200 मिली हवा है।

Residual Volume − आपके द्वारा सांस लेने के बाद फेफड़ों में जो हवा बची हुई है, जितनी हवा आप बाहर निकाल सकते हैं, उदाहरण के लिए सांस लेने की मात्रा (ईआरवी) को बाहर निकालने के बाद फेफड़ों में मौजूद हवा, यह लगभग 1200 मिली हवा है।

टीएलसी या कुल ल्यूकोसाइट गिनती एक रक्त परीक्षण है जो शरीर में सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या को मापता है. सामान्य सीमा से कोई विचलन एक रोग प्रक्रिया का अर्थ है. दोनों बढ़े हुए और घटे हुए मान कुछ अंतर्निहित असामान्यता का सुझाव देते हैं।

ल्यूकोसाइट्स सफेद रंग की रक्त कोशिकाएं होती हैं जो हमारे शरीर को संक्रमण और बीमारियों से बचाती हैं. वे कुछ बीमारी की संख्या में कमी कर सकते हैं जिससे शरीर को संक्रमण का खतरा होता है।

सामान्य श्रेणी: 4000 - 11000cells / घन मिलीमीटर रक्त।

कुल फेफड़ों की क्षमता (TLC) हवा की अधिकतम मात्रा है, जो फेफड़े पकड़ सकते हैं. यह सबसे गहरी सांस लेने के बाद फेफड़ों में हवा की कुल मात्रा का आकलन करके मापा जाता है. आपकी जानकारी के लिए बता दे की फेफड़े की प्लीथेमोग्राफी, कई फुफ्फुसीय फ़ंक्शन परीक्षणों में से एक है, जिसका उपयोग TLC निर्धारित करने के लिए किया जाता है, और फेफड़ों के कार्य का यह आकलन विभिन्न प्रकार के फेफड़ों की स्थिति का निदान और मूल्यांकन करने में सहायता कर सकता है।

TLC टेस्ट का उद्देश्य

आपका डॉक्टर कई कारणों से आपके फेफड़ों की कुल क्षमता का परीक्षण करना चाहता है −

  • फेफड़े के रोगों का निदान करने के लिए और अवरोधक (जैसे, अस्थमा या पुरानी प्रतिरोधी फेफड़े की बीमारी, सीओपीडी) प्रकारों से प्रतिबंधक (जैसे, निमोनिया या फुफ्फुसीय फाइब्रोसिस) का निदान करना।

  • ब्रोन्कोडायलेटर्स, मेथाकोलीन, हिस्टामाइन या आइसोकेपनिक हाइपरवेंटिलेशन जैसे उपचारों के लिए अपनी प्रतिक्रिया का परीक्षण करने के लिए।

  • पर्यावरण प्रदूषकों से सीओपीडी, अस्थमा या क्षति की गंभीरता का निर्धारण करना।

  • मूल्यांकन करने के लिए कि क्या आप फेफड़ों के कैंसर की सर्जरी के लिए अच्छे उम्मीदवार हैं।

दोस्तों एक स्वस्थ फेफड़े की औसत अधिकतम क्षमता लगभग 6,000 मिलीलीटर (एमएल) है, जो छह लीटर या हवा की लगभग तीन बड़ी सोडा की बोतलों के बराबर है. परिणाम भिन्न हो सकते हैं और किसी व्यक्ति की आयु, लिंग, ऊंचाई और जातीय पृष्ठभूमि पर निर्भर करते हैं, लेकिन यह मानदंड डॉक्टरों को यह निर्धारित करने में मदद कर सकता है कि क्या फेफड़ों के कार्य से समझौता किया गया है।

उदाहरण के लिए, सीओपीडी के रोगियों में, श्वास प्रक्रिया के दौरान फेफड़ों में छोड़ी गई हवा की मात्रा आमतौर पर सामान्य से अधिक होती है. सीओपीडी वाले रोगी अक्सर पूरी तरह से साँस लेने में असमर्थ होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप फेफड़े के हाइपरफ्लिफिकेशन होते हैं और इस प्रकार, अधिक से अधिक फेफड़े के ट्यूमर ।