MBA Full Form in Hindi




MBA Full Form in Hindi - एमबीए की पूरी जानकारी हिंदी में

MBA Full Form in Hindi, MBA की Full Form क्या हैं, एमबीए की फुल फॉर्म क्या है, Full Form of MBA in Hindi, MBA Form in Hindi, MBA का पूरा नाम क्या है, MBA Ka Poora Naam Kya Hai, MBA Kya Hota Hai, MBA के लिए Eligibility क्या होती है, MBA के बाद Job Fields क्या रहती है, दोस्तों क्या आपको पता है MBA की Full Form क्या है, और MBA होता क्या है, अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं क्योंकि आज हम इस article के माध्यम से ये जानेंगे की MBA क्या होता है, और इसकी Full Form क्या होती है? चलिए MBA के बारे में सभी प्रकार की सामान्य information आसान भाषा में इस article की मदद से प्राप्त करते हैं।

MBA Full Form in Hindi

MBA की full form "Master of Business Administration" होती है, MBA एक Master Degree Course है, दोस्तों MBA Course में आपको Business से जुड़ी जानकारी पूर्ण रूप से मिल जाती है, इस Course में आपको Business Management, Marketing Skills, Business Skills आदि की जानकारी दी जाती है।

MBA की degree कोई भी student बड़ी आसानी के साथ कर सकता है. इस course को करने के लिए बस आपका graduate होना बहुत ही आवश्यक है. जब आप MBA Complete कर लेते है तो आप अपना खुद का Business भी कर सकते है, तथा आप जिस field में MBA करना चाहते है, आप उस field में MBA कर सकते है।

MBA यानि Master of Business Administration यह भारत और विदेशों में सबसे लोकप्रिय पोस्ट ग्रेजुएट कार्यक्रमों में से एक है. दो साल का यह पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम कॉर्पोरेट दुनिया में मुख्य रूप से प्रबंधकीय स्तर पर नौकरी के अवसरों की अधिकता का प्रवेश द्वार है. विज्ञान, कॉमर्स, मानविकी आदि सभी स्ट्रीम्स के छात्र इसे आगे बढ़ा सकते है. MBA की डिग्री प्राप्त लोग विभिन्न कंपनियों में Business management का काम करते हैं उनका मुख्य कार्य व्यापार प्रबंधन होता है, आसान भाषा में कहें तो MBA की डिग्री वाले लोग छोटी या बड़ी कंपनियों को manage करने का कार्य करते हैं. चूँकि किसी भी Business को आगे बढ़ाने के लिए एक ऐसे व्यक्ति की जरुरत होती है जो Business के सभी कामों पर नजर रखे और कैसे Business को आगे बढ़ाया जाये इसका प्रारूप तैयार करे, इसी कार्य के लिए Business सम्बन्धी कंपनियां MBA करने वालों को नौकरी देती हैं।

What is MBA in Hindi

मास्टर इन बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन एक बहुत बड़ी डिग्री होती है और यह डिग्री अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी मान्यता रखती हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दे की यह एक बहुमुखी प्रतिभा रखने वाला क्षेत्र हैं और विभिन्न देशों में उपयोगिता रखता हैं. आजकल सभी मल्टीनेशनल कंपनियों में MBA Professionals की मांग बहुत तेजी के साथ बाद रही है. Business administration industry में MBA Holders की बहुत डिमांड हैं. वैसे MBA के विद्यार्थियों के लिए एक बात जानने योग्य यह हैं कि वे जितने अच्छे कॉलेज से यह कोर्स करेंगे, उनकी जॉब उतने ही अच्छे मैनेजमेंट लेवल पर लगेगी अर्थात उतनी ही अच्छी कंपनी में और उसी के अनुरूप उनके पैकेज भी कम या ज्यादा होते हैं. यह 2 साल का कोर्स हैं और Multi National Companies के दिनों दिन बढ़ने के कारण इसकी डिमांड भी बढ़ती जा रही हैं. यदि हम ये भी कहें कि MBA Holders की डिमांड कभी कम नहीं होगी या इनका स्तर नहीं गिरेगा तो यह अतिशयोक्ति नहीं होगी. MBA एक Professional course है जिसे ग्रेजुएशन के बाद किया जा सकता है. अगर आप भी Business management में अपना करियर बनाना चाहते है तो MBA आपके लिए एक बेहतरीन कोर्स साबित हो सकता है।

MBA एक पोस्ट ग्रेजुएशन degree है . और इस डगरी को करने के बाद आप किसी भी मल्टीनेशनल company में अच्छी जॉब कर सकते है. MBA में आपको business से सम्बंधित जानकारी दी है. जैसे Business Management, Marketing Skills, Business Skills, Accounting, Business communication, Business Ethics, Marketing and Operations आदि की जानकारी दी जाती है. MBA कोर्स करने के बाद आप आपना खुद का भी business कर सकते है, MBA कोर्स को करने के लिए आपको ग्रेजुएशन पूरा करना होता है, बिना ग्रेजुएशन के आपको किसी भी MBA कॉलेजों में प्रवेश नहीं मिलेगा. इसकी शुरुआत भारत से नहीं बल्कि अमेरिका से हुई. जब Industrialization का विस्तार हुआ तो Companies में अच्छे Management की मांग बढ़ती गई और वैज्ञानिक दृष्टिकोण से एक अच्छे management की मांग बढ़ रही थी.

इस कारण से एक ऐसे Course की जरूरत महसूस होने लगी, जिससे Students को Business management में परिपक्व बनाया जा सके, इसलिए MBA कोर्स को इस हेतु निकाला गया. इस education के लिए पहला कॉलेज 20 वीं सदी की शुरुआत में संयुक्त राज्य अमेरिका में 1881 में शुरू किया गया था. इसके पहले School का नाम The Wharton School है. इसके बाद ही धीरे-धीरे सभी countries में इसकी जरूरत को महसूस किया गया. जब MBA भारत में शुरू नहीं हुआ था, तब Students इसकी education के लिए अमेरिका जाया करते थे. हालांकि आज भी कई Students इस पाठ्यक्रम के लिए अमेरिका जाते हैं, लेकिन अब ये भारत में भी किया जा सकता है. यह कोर्स उन सभी लोगो के लिए मददगार साबित होता है. जो अपना करियर बिज़नस मैनेजमेंट में बनाना चाहते है।

भारत में MBA या मास्टर ऑफ Business administration एक स्नातकोत्तर शैक्षणिक मास्टर डिग्री है जो Business administration में पाठ्यक्रम या कार्यक्रम के लिए प्रदान की जाती है. यह लोकप्रिय रूप से M.B.A के रूप में जाना जाता है जो मास्टर ऑफ Business administration डिग्री का संक्षिप्त रूप है. मास्टर ऑफ Business administration उन पाठ्यक्रमों में से एक है जो किसी भी स्ट्रीम के छात्रों द्वारा प्राप्त किया जा सकता है. यह आमतौर पर 2 या अधिक सेमेस्टर के साथ एक 2 साल का कार्यक्रम है।

भारत में MBA की डिग्री परीक्षा उन्मुख है और प्रबंधन के सैद्धांतिक पहलुओं पर केंद्रित है. MBA के 2 प्रकार हैं, सामान्य MBA, जो अक्सर अवधि और विशेषीकृत MBA में कम होता है, जिसमें अधिक समय लग सकता है. लेकिन यह अधिक विपणन योग्य है, कार्यक्रम विभिन्न विषयों में उपलब्ध है, जिनकी सामग्री वाणिज्य, प्रबंधन और अर्थशास्त्र से संबंधित विषयों पर केंद्रित है. कार्यक्रमों में आमतौर पर एक थीसिस घटक शामिल होता है, या विशेष रूप से अनुसंधान आधारित भी हो सकता है।

MBA कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया?

किसी प्रतिष्ठित संस्थान में MBA कोर्स में प्रवेश के लिए कॉमन एडमिशन टेस्ट (CAT) में अच्छा स्कोर होना चाहिए. CAT प्रवेश परीक्षा भारत के अधिकांश B विद्यालय परीक्षा के किसी भी अंक को स्वीकार करते हैं. प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए लिखित प्रवेश परीक्षा सिलेबस कंसिस्टेंट की तरह भाषा में एकाधिक विकल्प परीक्षण, मात्रात्मक, तार्किक और तर्क, और सामान्य व्यापार जागरूकता।

MBA course fees

MBA के Entrance Exams के लिए फीस बहुत ज्यादा नहीं होती है, यह लगभग 1500-2000 के बीच में हो सकती है. दोस्तों लेकिन अगर आप इस कोर्स को करना चाहते है तो यहाँ पर हम आपकी जानकारी के लिए बता दे की MBA करने के लिए फीस हर कॉलेज की अलग-अलग हो सकती है. 2 वर्ष के लिए कम से कम इस course के लिए 2-3 लाख रुपए हो सकते हैं. लेकिन आपको ऐसे भी कई कॉलेज मिलेंगे जहां फीस 5-10 लाख रुपए भी हो सकती है. आप जिस भी कॉलेज से MBA करना चाहते हैं, तो आप उसकी जानकारी सम्बंधित कॉलेज से online उसकी website से भी प्राप्त कर सकते हैं. रेगुलर और डिस्टेंस मोड में भी MBA की पेशकश, सरकार स्कॉलरशिप और शुल्क प्रतिपूर्ति जैसी मुफ्त सीटें भी प्रदान करती है. कोर्स के लिए डिस्टेंस MBA की फीस लगभग for 31,500 और रेगुलर मोड लगभग Distance 60,000 है।

MBA के लिए Qualification?

MBA करने के लिए qualification criteria क्या है आइये जानते है, जो भी छात्र MBA की मास्टर डिग्री करने में रूचि रखते है उनमें आगे बताई गयी MBA करने के लिए Qualification का होना आवश्यक है −

  • MBA करने के लिए आपने ग्रेजुएशन में छात्र का कम से कम 50% स्कोर से पास होना अनिवार्य है जबकि आरक्षित श्रेणी के Students के लिए अंक में न्यूनतम स्कोर 45% है।

  • अंतिम वर्ष के ग्रेजुएट उम्मीदवार भी MBA के लिए आवेदन करने के लिए पात्र है, परन्तु इसके लिए उन्हें संस्थान से निर्धारित अवधि के भीतर ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी करने का प्रमाण देना होगा।

MBA करने के लिए व्यक्ति को किसी भी मान्यता प्राप्त University से स्नातक की डगरी प्राप्त करना जरुरी है और स्नातक में कम से कम 50% Marx होने भी जरुरी हैं. अगर छात्र SC/ST से belong करते हैं तो उनके लिए स्नातक में 45% Marx होने जरुरी हैं. MBA में Admission के लिए Students को प्रवेश परीक्षा से भी गुजरना पड़ता है।

Full time MBA

दो साल की अवधि में, छात्र नियमित कक्षाओं में भाग लेने, सेमेस्टर क्लीयर करने, प्रस्तुतियां करने, इंटर्नशिप करने और इसी तरह से MBA की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं. यदि कक्षा के घंटों के संदर्भ में गणना की जाए, तो नियमित MBA students के लिए यह लगभग 600 घंटे बैठता है. पाठ्यक्रम की गहराई और अधिकतम क्षमता दो साल की अवधि के पूर्णकालिक MBA की बात आती है।

Part Time MBA

इसके अलावा, Executive MBA के रूप में संदर्भित - यह पेशेवरों द्वारा पीछा किया जाता है. जब वे उद्योग में काम कर रहे होते हैं. हालांकि पढ़ाई और काम को संतुलित करना एक चुनौती है, फिर भी उद्योग से प्रत्यक्ष सीखना और प्रोफेसरों से इसकी समान समझ - इसे एक दिलचस्प घटना बनाते हैं. Students की सुविधा के अनुसार, कक्षाएं आमतौर पर पोस्ट ऑफिस घंटे आयोजित की जाती हैं।

MBA History

MBA course की शुरुवात united states में Harvard Graduate School of Business Administration द्वारा सन 1908 में 15 कर्मचारियों, 33 नियमित student और 47 विशेष student से किया, America के साथ साथ यह course धीरे धीरे पुरे विश्व में फैला और आज पुरे विश्व में MBA के कई colleges मिलेंगे।

MBA के लिए Top Enterance Exam

  • IIFT (Indian Institute of Foreign Trade)

  • CAT (Common Admission Test)

  • CET (Common Entrance Test)

  • MBS (Mumbai Business School Entrance Exam)

  • APIME (Asia Specific Institute of Management Exam)

  • CMAT (Common Management Admission Test)

  • IGNOU OPENMAT (Open Management Admission Test)

MBA के बाद Job Fields

MBA के बाद आप किस किस Fields में job कर सकते है आइये जानते है, दोस्तों MBA के बाद कई Job करने के लिए बहुत सी Fields मौजूद है जहाँ पर आप काम कर सकते है लेकिन कुछ मुख्य Job Fields के नाम ये है −

  • Management

  • Human Resources

  • Marketing

  • Finance

  • Accounting

  • Sales

एमबीए के साथ आप और क्या कर सकता है?

भर्ती प्रक्रिया के दौरान एमबीए एक मूल्यवान Property हो सकती है. डिग्री आपको प्रतिस्पर्धी उद्योगों में तोड़ने में मदद कर सकती है, घर से दूर नौकरी कर सकती है, या कार्यकारी भूमिका को सुरक्षित करने में मदद कर सकती है. बी-स्कूल के पूर्व छात्रों को उत्पादों / सेवाओं (20 प्रतिशत), प्रौद्योगिकी (17 प्रतिशत), और वित्त / लेखा (15 प्रतिशत) सहित उद्योगों की एक श्रेणी में नियोजित किया जाता है। सबसे सामान्य प्रबंधन (24 प्रतिशत), वित्त / लेखा (21 प्रतिशत), और विपणन / बिक्री (18 प्रतिशत) के साथ नौकरी के कार्य भी भिन्न होते हैं। जबकि हाल के पूर्व छात्रों को मध्य-स्तरीय पदों (49 प्रतिशत) में नियोजित किया जाता है, कई पूर्व स्नातक वरिष्ठ, कार्यकारी या सी-सूट पदों पर चढ़ते हैं। इसके अलावा, एमबीए आपको अपना बॉस बनने में मदद कर सकता है; 10 बी-स्कूल के पूर्व छात्रों में से 1 वे उद्यमी हैं जिन्होंने अपनी कंपनियों की स्थापना की।

एमबीए उम्मीदवारों को कितना वेतन दिया जाता है ?

एमबीए सेल्स एंड मार्केटिंग फ्रेशर को औसतन 8.9 लाख का प्रारंभिक वेतन पैकेज मिलेगा और सिस्टम में एमबीए करने पर औसतन 8 - 10 लाख का वेतन मिलेगा, एक्सपीरियंस कैंडिडेट फॉर्म के लिए, प्रतिष्ठित कंपनियां कौशल के आधार पर वेतन की मांग कर सकती हैं और 18 लाख के वेतन पर काम कर सकती हैं।